5-Feb-2020, Rohtak

महम से निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू की शिकायत पर गृह मंत्री अनिल विज ने बड़ा कदम उठाते हुए स्थानीय निकाय विभाग की एक एसआईटी गठित करने के आदेश दिए हैं। गृहमंत्री ने 3 सदस्यीय एसआईटी में अर्बन लोकल बॉडी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर, एक चीफ इंजीनियर और एक रिटायर्ड अधिकारी शामिल किए हैं, यह कमेटी पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर पर लगे आरोपों की जांच करेगी व एक महीने में रिपोर्ट गृहमंत्री को सौंपेगी।

गौरतलब है कि महम से निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने लोकल बॉडी डिपार्टमेंट में पिछले 5 साल के भ्रष्टाचार के कई मामलों की शिकायत की थी, जिस पर गृह मंत्री अनिल विज ने एसआईटी का गठन किया है। महम के निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने राज्य के गृहमंत्री अनिल विज से मुलाकात कर पिछले दिनों हरियाणा के पूर्व सहकारिता राज्यमंत्री मनीष ग्रोवर के खिलाफ कई घोटालों के दस्तावेज सौंपे।

अपने खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर पर बलराज कुंडू कहा है कि व डरने वाले नहीं हैं, यह धर्म युद्ध है और उनको पूरा भरोसा है कि आखिर में जीत सत्य की ही होगी। गृह मंत्री विज से मुलाकात करके विधायक कुंडू ने उनको यूएलबी घोटाले के अलावा शुगर मिलों के शीरे में हुई धांधली, कैथल मिल के चिप घोटाले तथा पानीपत डिस्टलरी जैसे कई अन्य घोटालों की जांच कराने को कहा।

27 करोड़ रुपये का एसटीपी प्लांट लगाया
महम से निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए गृह मंत्री अनिल विज को शिकायत सौंपी है। कुंडू ने इस बार विज को साक्ष्य भी सौंपे हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि अब तक उन्हें जो साक्ष्य मिले हैं उसमें तत्कालीन मंत्री ने तीन गुना पैसों पर एसटीपी प्लांट लगाकर घोटाला किया है।

कुंडू ने आरोप लगाया कि करनाल की जिस एजेंसी ने एक जिले में 27 करोड़ रुपये का एसटीपी प्लांट लगाया था। उसी कंपनी का रोहतक और सोनीपत में एसटीपी प्लांट लगाने के लिए 72 करोड़ रुपये का टेंडर किया गया।

कुंडू ने कहा कि उन्होंने सरकार को बिना शर्त समर्थन दिया है और जनता का प्रतिनिधि होने के नाते उनकी जिम्मेदारी है कि जो भी घोटाले हुए हैं। उसकी जांच कराई जाए। कुंडू ने कहा था कि निकाय मंत्री अनिल विज को जो शिकायत दी है उसमें पूरे कागजात और साक्ष्य हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अब तक मिले साक्ष्यों में तत्कालीन मंत्री ने 3 गुना पैसों पर एसटीपी प्लांट लगाकर घोटाला किया है। उन्होंने कहा कि करनाल की जिस एजेंसी ने एक जिले में 27 करोड़ का एसटीपी प्लांट लगाया था उसे रोहतक और सोनीपत में 72 करोड़ का टैंडर कैसे दिया गया।

कुंडू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री मनोहरलाल और निकाय मंत्री अनिल विज भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान को गति दे रहे हैं। मंत्री से उम्मीद है कि पूर्व सरकार में जिन नेताओं और अफसरों ने मिलीभगत कर घोटाला किया है उसे जांच करवाकर सजा दिलाएंगे। सचिवालय में पत्रकारों से बातचीत में कुंडू ने कहा कि सरकार को बिना शर्त समर्थन दिया है और जनप्रतिनिधि होने के नाते जिम्मेदारी है कि घोटाले की जांच करवाई जाए। सरकारी पैसों के दुरुपयोग विरुद्ध आवाज उठाना कर्तव्य है।

Share